fbpx
Reading Time: 7 minutes

कार्तिक मास के अंतिम 5 दिन भीष्म पंचक या विष्णु पंचक के नाम से जाने जाते हैं। यह 5 दिवसीय व्रत उत्थान एकादशी तिथि से आरम्भ होता है और कार्तिक पूर्णिमा पर समाप्त होता है। हरि भक्ति विलास के अनुसार यदि कोई भक्त यह व्रत करने में सक्षम है, तो उसे भगवान श्रीकृष्ण की प्रसन्नता के लिए भीष्म-पंचक पर कुछ विशेष खाद्य पदार्थों से उपवास का पालन करना चाहिए। पद्म पुराण में कहा गया है कि जो भी भक्त इस ५ दिवसीय व्रत का पालन करते हैं, उन्हें इस तपस्या से आध्यात्मिक उन्नति एवं भगवान श्रीकृष्ण की शुद्ध भक्ति प्राप्त होती है।

कार्तिक मास के अंतिम पांच दिनों में यह व्रत पहले ऋषि वशिष्ठ, भृगु, गर्ग आदि द्वारा सत्ययुग में किया जाता था। अंबरीष महाराज ने यह व्रत किया और त्रेतायुग में अपने सभी राजसी सुखों का त्याग कर दिया।

भीष्म पंचक उपवास का पालन करने से व्यक्ति को चारों चतुर्मास उपवास का लाभ मिलता है यदि कोई उसका पालन करने में असमर्थ रहा हो। 

भीष्म पंचक का व्रत क्यों रखा जाता है?

भीष्म-पंचक मां गंगा एवं राजा शांतनु के पुत्र भीष्मदेव को समर्पित है। वह कुरु वंश में महान राजा भरत के वंशज पांडवों के ज्येष्ठ पितामह हैं। महाभारत एवं श्रीमद-भागवतम के अनुसार भीष्मदेव ने कुरु वंश का सिंघासन त्याग कर आजीवन ब्रह्मचारी रहने की प्रतिज्ञा की जिसका उन्होंने जीवनपर्यन्त पालन किया। गौड़ीय वैष्णव के अनुसार, भीष्मदेव कृष्णभावनामृत विज्ञान में बारह महाजन अधिकारियों में से एक के रूप में जाने जाते हैं। अपनी युवावस्था में उन्हें यह वरदान मिला था कि उनकी मृत्यु उनकी इच्छानुसार ही होगी।

महाभारत का युद्ध समाप्ति होने के जिस समय गंगा पुत्र भीष्म सूर्य के उत्तरायण होने की प्रतीक्षा में बाणों की शैया पर शयन कर रहे थे तब भगवान श्रीकृष्ण पांडवों के साथ उनके पास गए तथा युधिष्ठिर ने भीष्म पितामह से प्रार्थना की कि- हे पितामह, आप हमें राज्य चलाने संबंधी उपदेश देने की कृपा करें।

तब भीष्म ने 5 दिनों तक राजधर्म, वर्णधर्म, मोक्षधर्म आदि पर उपदेश दिया। उनका उपदेश सुनकर भगवान श्रीकृष्ण संतुष्ट हुए और बोले कि गंगा पुत्र आपने कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी से पूर्णिमा तक 5 दिनों में जो धार्मिक उपदेश दिया है उससे मुझे बड़ी प्रसन्नता हुई है। इस कारण आपकी स्मृति में आपके नाम पर भीष्म पंचक व्रत का प्रारंभ होगा और इन पांच दिनों में भगवान हरि की पूजा करने और भक्ति सेवा में संलग्न भक्तों को मैं शुद्ध भक्ति का वरदान देता हूँ। पांडवों के युद्ध जीतने के बाद, भीष्मदेव ने अंततः शांति अनुभव की। वह पार्थ-सारथी के रूप में अपनी दिव्य विशेषता में भगवान श्रीकृष्ण के कमल जैसे चेहरे को देखते हुए अपना शरीर छोड़ना चाहते थे। यह भगवान श्रीकृष्ण के प्रति उनकी अटूट आस्था और भक्ति को दर्शाता है, जो जीवन की सर्वोच्च पूर्णता है।

पद्म पुराण में कहा गया है कि जो भी भक्त कार्तिक मास के अंतिम 5 दिनों में इस व्रत का पालन करते हैं, वह जीवन में आध्यात्मिक उन्नति करते हैं एवं बड़े से बड़े पापों से मुक्त हो जाते हैं।

भीष्म पंचक उपवास

हरि भक्ति विलास में भीष्म पंचक व्रत में कुछ खाद्य पदार्थों से भगवान केशव की प्रसन्नता के लिए अपनी क्षमता और समर्पण के अनुसार उपवास पालन करने के लिए कहा गया है। भीष्म पंचक उपवास की 3 श्रेणियां हैं।

 

उपवास श्रेणी-1

Bhisma Panchak Vrat

पांच दिनों में से प्रत्येक दिन गाय के पांच उत्पादों को पंचगव्य के रूप में ग्रहण किया जाता है।

  1. पहला दिन: गाय का गोबर (गोमाया)
  2. दूसरा दिन: गोमूत्र (गोमूत्र)
  3. तीसरा दिन: गाय का दूध (क्षीरा)
  4. चौथा दिन: गाय का दही (दही)
  5. पांचवां दिन: गाय के सभी उत्पाद मिश्रित (पंच-गव्य)

यदि उपवास की पहली श्रेणी आपके लिए संभव नहीं है तो आप फल, मेवा और जड़ ले सकते हैं जैसा दूसरी श्रेणी में वर्णित है।

उपवास श्रेणी-2

यदि कोई भक्त उपवास की पहली श्रेणी का पालन करने में असमर्थ हैं तो वह निम्नलिखित खाद्य पदार्थ ग्रहण कर सकते हैं-

आलू, शकरकंद, मूंगफली, सादा काजू, किशमिश, खजूर, केला कच्चा, मौसम्बी, संतरा, नाशपाती, सेब, चीकू, ताजा कसा हुआ नारियल, नारियल पानी। उपर्युक्त खाद्य पदार्थों को कच्चा, उबला या बेक किया जा सकता है। स्वाद के लिए समुद्री नमक का उपयोग कर सकते हैं।

इस श्रेणी में अमरूद, अनार, ककड़ी जैसे बहुत सारे बीजों वाले फल, दुग्ध उत्पाद एवं तेल का सेवन भी वर्जित है।

उपवास श्रेणी-3

यदि कोई भक्त उपवास की दूसरी श्रेणी का पालन करने में असमर्थ हैं, तो वह “हविश्य” ले सकते हैं जैसा कि निम्नलिखित पुराणों में संदर्भित है-

सन्दर्भ: पद्म पुराण, ब्रह्म खंड, अध्याय 23; स्कंद पुराण, विष्णु खंड, कार्तिक महात्म्य, अध्याय 32; गरुड़ पुराण, पूर्वा, खंड, अध्याय 123

श्री हरि-भक्ति-विलास में वर्णित हविश्य के लिए सामग्री (13.10-13) – हविश्य बनाने में निम्नलिखित सामग्री का उपयोग किया जा सकता है, जो इन वस्तुओं से बनी खिचड़ी की तरह है।

  1. चावल
  2. शुद्ध गाय का घी
  3. गाय का दूध और मलाई
  4. समुद्री नमक
  5. कच्चा केला
  6. गेहूं
  7. नारियल पानी
  8. फल (स्कंद पुराण, नागर खंड कहते हैं कि उन्हें एक छोटे से बीज के साथ होना चाहिए या केवल कुछ बीजों के साथ)
  9. जड़ें
  10. गन्ने से बने उत्पाद (गुड़ के अलावा अन्य पदार्थ)
  11. पालक का काला साक
  12. पिपली जड़ी बूटी

कार्तिक के महीने में हविश्य के हिस्से के रूप में निम्नलिखित अवयवों से बचना चाहिए:

  1. मूंग दाल
  2. तिल का तेल
  3. बेटा-शाका
  4. शष्टिका-शाका
  5. मूली
  6. जीरा
  7. इमली

भीष्म पंचक के लिए निर्धारित अर्पण

गरुड़ पुराण के अनुसार भीष्म पंचक व्रत के दिनों में भक्तगण द्वारा भगवान श्रीकृष्ण के समक्ष  निम्नलिखित फूल अर्पित किए जाने चाहिए।

 

  1. पहले दिन, भगवान के चरणों में पद्म (कमल) के फूल अर्पित करने चाहिए।
  2. दूसरे दिन, भगवान की जाँघ पर बिल्वपत्र अवश्य अर्पित करना चाहिए।
  3. तीसरे दिन, भगवान की नाभि में गंध (सुगंध) अर्पित करना चाहिए।
  4. चौथे दिन, भगवान के कन्धों पर जावा का फूल अर्पित करना चाहिए।
  5. पांचवें दिन, भगवान के सिर पर मालती का फूल अर्पित करना चाहिए।

Your Smallest act of Charity can make a difference and bring smiles to Needy Faces.